Fake Delivery OTP Scam : ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं तो हो जाएँ सावधान! यह एक गलती आपको बना सकती है कंगाल

Fake Delivery OTP Scam : कई बार ग्राहक को आईफोन की जगह साबुन मिला. कुछ को आईफोन की जगह ईंट मिली है। इस ऑनलाइन डिलीवरी धोखाधड़ी से निपटने के लिए वेबसाइटों ने वन टाइम पासवर्ड डिलीवरी प्रक्रिया शुरू की है। इससे नागरिकों के साथ बड़े पैमाने पर ठगी की जा रही है।

Fake Delivery OTP Scam : आजकल स्मार्टफोन में एक क्लिक पर कई चीजें आसानी से मिल जाती हैं। स्मार्टफोन की मदद से आप घर बैठे कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक सामान समेत कई चीजें (ऑनलाइन शॉपिंग) खरीद सकते हैं। ई-कॉमर्स कंपनियां ग्राहकों के लिए आकर्षक सेल और ऑफर्स ला रही हैं। ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म (अमेज़न-फ्लिपकार्ट) नियमित बाजारों की तुलना में आकर्षक छूट प्रदान करते हैं। इसलिए नागरिक ऑनलाइन अधिक पसंद करते हैं।

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर डिस्काउंट, एक्सचेंज ऑफर, बैंक ऑफर, कूपन कोड उपलब्ध हैं। लेकिन ऑनलाइन शॉपिंग को लेकर एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। इसलिए ऑनलाइन शॉपिंग करते समय सावधान रहें, नहीं तो आपकी एक गलती आपका बैंक अकाउंट खाली कर सकती है।

Amazon और Flipkart जैसी भारत की ई-कॉमर्स कंपनियों ने धोखाधड़ी से निपटने के लिए वन टाइम पासवर्ड (OTP) सिस्टम पेश किया। इसमें डिलीवरी एजेंट जब ग्राहक के पास पहुंचता है तो उसे पार्सल मिलने के बाद ओटीपी शेयर करना होता है। यह संबंधित ग्राहक को पार्सल की रिसीविंग की पुष्टि करता है। लेकिन उसी ओटीपी का प्रयोग अब साइबर अपराधी लोगों को ठगने के लिए भी धड़ल्ले से कर रहे हैं।

साइबर अपराधी ग्राहकों को लूटने के लिए डिलीवरी एजेंट होने का नाटक कर उनसे धोखाधड़ी कर रहे हैं। ऐसी कई रिपोर्टें आई हैं कि अपराधी खुद को डिलीवरी एजेंट बनकर लोगों के घरों में पहुंचे और डिलीवरी से पहले ओटीपी साझा करने के लिए कहा। फिर जैसे ही लोगों द्वारा ओटीपी शेयर किया जाता है वे ठगी का शिकार हो रहे हैं।

क्या है नकली ओटीपी वितरण घोटाला

स्कैमर ई-कॉमर्स वेबसाइटों से खरीदारी करने वाले और लोगों को निशाना बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके साथ ही जालसाज इस बात पर भी नजर रखते हैं कि किन ग्राहकों को नियमित रूप से पार्सल मिलते हैं। इसके बाद जालसाज डिलीवरी एजेंट बनकर ग्राहक के घर आते हैं और कहते हैं कि अमेजन-फ्लिपकार्ट या पोस्ट ऑफिस का पार्सल हाथ में है. इसके बाद जालसाज लोगों से पैसे की डिमांड करते हैं और उन्हें कहते हैं कि उनके पास कैश-ऑन-डिलीवरी का भी विकल्प है।

ऊपर से अगर यूजर्स डिलीवरी लेने से इनकार करते हैं तो वे कहते हैं कि पार्सल कैंसिल कर दो। इसके लिए उन्हें एक ओटीपी मिलेगा, जिसे उन्हें शेयर करना होगा। ऐसे में कई लोग इन ठगों की बातों का शिकार हो जाते हैं और फोन पर मिले लिंक पर क्लिक कर देते हैं. फिर जैसे ही स्कैमर्स को ओटीपी मिल जाता है। वे फोन का क्लोन या हैक कर लेते हैं। इसके बाद हैकर्स फोन से बैंक डिटेल्स चोरी कर लेते हैं और लोगों से उनके सारे पैसे लूट लेते हैं। ऐसे में ऐसे ठगों से सावधान रहें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,703FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles

x