Modi government’s big gift on New Year : नए साल पर मोदी सरकार का आम लोगों को बड़ा तोहफा, किया ये बड़ा ऐलान!

Modi government’s big gift on New Year : नए साल का स्वागत करने से पहले ही मोदी सरकार ने आम लोगों को खुशखबरी दी है. एक जनवरी से ये नए नियम लागू होने से आम लोगों को बड़ी राहत मिलेगी और आर्थिक लाभ भी होगा.

Modi government’s big gift on New Year : मोदी सरकार ने नए साल से पहले आम लोगों को नए साल का तोहफा दिया है. केंद्र सरकार ने छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दर बढ़ाकर नए साल की धमाकेदार शुरुआत की है। सरकार ने नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC), पोस्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट, सीनियर सिटीजन सेविंग्स योजना पर ब्याज दर बढ़ा दी है। तो नए साल में कम बचत करने वालों के लिए यह एक अच्छी खबर है। नई ब्याज दरें 1 जनवरी से प्रभावी होंगी।

ALSO READ THIS :  Earthquake in Uttarakhand: उत्तराखंड में महसूस किये गये भूकंप के तेज झटके, नेपाल में मकान गिरने से 6 लोगों की मौत

हालांकि, पीपीएफ की ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है। नई ब्याज दरें 1 जनवरी से लागू होंगी। वित्त मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक जनवरी से मार्च तिमाही के लिए कुछ बचत योजनाओं पर ब्याज दरों को 0.20 फीसदी से बढ़ाकर 1.10 फीसदी कर दिया गया है.

सार्वजनिक भविष्य निधि की ब्याज दरें 7.1 प्रतिशत पर अपरिवर्तित बनी हुई हैं। किसान विकास पत्र की ब्याज दर बढ़ा दी गई है। किसान विकास पत्र पर 123 महीने के लिए ब्याज दर 7 प्रतिशत से 7.2 प्रतिशत होगी।

पहले भी बढ़ोतरी हुई थी

इससे पहले सरकार ने दिसंबर तिमाही के लिए कुछ छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी की थी। यह वृद्धि 0.30 आधार अंकों की थी। केंद्र सरकार हर तिमाही छोटी बचत योजनाओं की समीक्षा करती है। फिर अंत में वित्त मंत्रालय फैसला लेता है।

ALSO READ THIS :  Teacher undergoes gender change surgery : प्यार में मीरा से आरव बनी टीचर, अपनी ही छात्रा से की शादी, लिंग बदलवाने को करवाई सर्जरी

खुदरा महंगाई पर अहम अपडेट

नवंबर में खुदरा मुद्रास्फीति 5.41 प्रतिशत पर आ गई क्योंकि कुछ खाद्य पदार्थों की कीमतों में कमी आई। अक्टूबर में यह 6.08 फीसदी थी। श्रम और रोजगार मंत्रालय से जुड़े श्रम ब्यूरो ने शुक्रवार को एक बयान में यह जानकारी दी। नवंबर 2021 में खुदरा महंगाई दर 4.84 फीसदी थी। पिछले महीने जहां खाद्य मुद्रास्फीति 4.30 प्रतिशत थी, वहीं अक्टूबर में यह 6.52 प्रतिशत और नवंबर 2021 में 3.40 प्रतिशत थी। आंकड़ों के मुताबिक नवंबर 2022 में औद्योगिक कामगारों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक 132.5 अंक पर स्थिर रहा।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,704FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles