Namaz Controversy In Ghaziabad
Namaz Controversy In Ghaziabad

Namaz Controversy In Ghaziabad: गाजियाबाद जनपद (Ghaziabad) के खोड़ा (Khora) इलाके में सड़क बंद करके कट्टर पंथियों के द्वारा नमाज (Namaz) पढ़ी गई, जिसको लेकर हिंदू संगठनों ने अपनी आपत्ति जताई है. पुलिस ने घटना में शमिल इमाम और अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.

Namaz Controversy In Ghaziabad: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में गाजियाबाद जनपद (Ghaziabad) के थाना खोड़ा के दीपक विहार इलाके में कट्टर पंथियों द्वारा सड़क पर नमाज (Namaz) पढ़ने की चिंताजनक घटना सामने आई है. नमाज पढ़े जाने को लेकर हिंदू संगठन से जुड़े लोगों ने अपनी आपत्ति जताई है. सड़क पर नमाज पढ़ने की इस चिंताजनक घटना को लेकर ट्वीट के माध्यम से पुलिस (Police) को जानकारी दी गई थी. पुलिस ने इस विवाद की जानकारी मिलने के बाद इमाम और अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. गाजियाबाद पुलिस (Ghaziabad Police) सड़क पर नमाज पढ़ने वालों की पहचान कर कार्रवाई किये जाने की बात कर रही है.

ALSO READ THIS :  9 people left Islam and adopted Hinduism : 9 लोगों ने इस्लाम त्याग कर अपनाया हिन्दू धर्म, 150 साल पहले पूर्वज दबाव में बन गए थे मुस्लिम

कट्टर पंथियों द्वारा सड़क पर नमाज पढ़े जाने का विरोध

विश्व हिंदू परिषद के जिला मंत्री विकास मिश्रा ने बताया कि मैंने खुद नमाज के वीडियो को ट्वीट किया था. यहां पर एक 50 गज की मस्जिद भी है. जिसे पहले इन्होंने मदरसे के रूप में शुरू किया गया था लेकिन अब इसे मस्जिद बना दिया है. इसपर पहले भी विवाद हो चूका है. इससे अधिक निर्माण कार्य वहां हो नहीं पा रहा है. इस मस्जिद से 500 मीटर के भीतर एक अन्य बड़ी मस्जिद है. वहां भारी संख्या में लोग नमाज पढ़ सकते हैं. पर वह वहां नमाज नहीं पढ़ते. जानबूझकर इन लोगों के द्वारा हिंदू बाहुल्य क्षेत्र में नमाज पढ़ी जाती है.

ALSO READ THIS :  Indian Railway Platform Ticket New Price: रेलवे ने जनता को राहत देते हुए किया बड़ा एलान, पढिये पूरी खबर

पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया

उन्होंने आरोप लगाया कि हिंदुओं को परेशान करने के लिए इन लोगों के द्वारा यहां नमाज पढ़ी जाती है. मेरे ट्वीट करने के बाद एसएसपी ने खुद मामले का संज्ञान लिया है और मुकदमा दर्ज किया है. उन्होंने हमें इस बात का आश्वासन दिया है कि आगे से रोड पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी.

सड़क बंद होने से परेशानी लोगों की बढ़ी परेशानी

स्थानीय लोगों ने बताया कि सड़क बंद करके नमाज पढ़े जाने से उनको आने-जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. नमाज को मस्जिद में पढना चाहिए. सड़क बंद करना उचित नहीं है. पुलिस को इस तरह की घटनाओं को गम्भीरता से लेते हुए इन्हें रोकना चाहिए और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करनी चाहिए.

ALSO READ THIS :  National Population Register (NPR) : राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को अपडेट किये जाने की आवश्यकता : केंद्रीय गृह मंत्रालय वार्षिक रिपोर्ट

देश भर से यदा कदा इस तरह की घटनाओं की सुचना लगातार आती रहती हैं. यह न केवल कानून का उल्लंघन है बल्कि इससे लोगों को भी परेशानी होती है. लेकिन इस सबके बावजूद कट्टर पंथी मानने को तैयार नहीं हैं. क्या यंह उनका अपनी ताकत दिखने और देश के गैर मुस्लिम लोगों को डराने का कोई फार्मूला तो नहीं है. क्या इन लोगों का कानून में बिलकुल भरोसा नहीं है. क्या इन्हें लोगों की परेशानी से कोई फर्क नहीं पड़ता। क्या यह गजवाये हिन्द का कोई रिहर्सल तो नहीं है. यह कुछ बेहद चिंताजनक और विचारणीय प्रश्न हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here