The Big Story
The Big Story

The Big Story: सपा के तुनक मिजाज नेता आजम खान की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रहीं. विधानसभा की सदस्यता खो चुके आजम खान अब कभी भी अपना वोट नहीं दे सकेंगे.

The Big Story: आजम खान पर बड़ी कार्यवाही करते हुए निर्वाचन आयोग ने उनसे मतदान का अधिकार छीन लिया है. आजम खान को भड़काऊ भाषण देने के मामले में 27 अक्टूबर को रामपुर की एमपी-एमएलए कोर्ट ने तीन साल की सजा सुनाई थी और फिर उसके बाद उनकी विधानसभा की सदस्यता रद्द हो गई थी.

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ और तुनकमिजाज नेता आजम खान को गुरुवार को एक और तगड़ा झटका लगा. अब आजम खान कभी भी अपना वोट भी नहीं दे सकेंगे. उनका वोटर लिस्ट से नाम ही हटा दिया जाएगा. नफरत भरा भाषण देने के मामले में तीन साल की सजा मिलने के बाद आजम खान की विधानसभा सदस्यता चली गई थी. अब निर्वाचन आयोग ने बड़ी कार्यवाही करते हुए उनसे मतदान का अधिकार भी छीन लिया है और उनका नाम मतदाता सूची से हटाने के आदेश दिए हैं.

ALSO READ THIS :  National Population Register (NPR) : राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को अपडेट किये जाने की आवश्यकता : केंद्रीय गृह मंत्रालय वार्षिक रिपोर्ट

निर्वाचन आयोग ने लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 16 के तहत आजम के विरुद्ध यह कार्रवाई की है. रामपुर सदर सीट के उपचुनाव में बीजेपी के प्रत्याशी आकाश सक्सेना ने लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों का हवाला देते हुए आजम खान का मताधिकार छीनने के लिए चुनाव आयोग को एक पत्र लिखा था. रामपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता पंजीकरण अधिकारी द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया है, ‘‘शिकायतकर्ता आकाश सक्सेना के प्रार्थना पत्र के साथ न्यायालय के आदेश की प्रतियां और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1950 और 1951 के सुसंगत प्रावधानों के तहत आजम का नाम वोटर लिस्ट से हटा दिया जाए.’

ALSO READ THIS :  Namaz Controversy In Ghaziabad: कट्टर पंथियों ने सड़क रोककर पढ़ी नमाज, हिंदू संगठनों की आपत्ति के बाद FIR दर्ज

भड़काऊ भाषण में हुई थी सजा

ज्ञात हो कि आजम खान को भड़काऊ भाषण देने के मामले में 27 अक्टूबर को रामपुर की एमपी-एमएलए अदालत ने तीन वर्ष की सजा सुनाई थी फिर उसके बाद उनकी विधानसभा सदस्यता रद्द हो गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here