Garuda Purana Lord Vishnu Theory

Garuda Purana Lord Vishnu Theory: पति-पत्नी रथ के दो पहिए हैं। सुखी वैवाहिक जीवन के लिए पति-पत्नी के बीच सामंजस्य बहुत जरूरी है। यदि इनमें से किसी एक में भी दोष हो तो जीवन की गाड़ी चल ही नहीं सकती।

Garuda Purana Lord Vishnu Theory: पति-पत्नी रथ के दो पहिए हैं। सुखी वैवाहिक जीवन के लिए पति-पत्नी के बीच सामंजस्य बहुत जरूरी है। यदि इनमें से किसी एक में भी दोष हो तो जीवन की गाड़ी चल ही नहीं सकती। पति के जीवन में पत्नी का बहुत महत्व माना जाता है। इसलिए शास्त्रों में पत्नी को अर्धांगिनी यानी पति की आधी कहा गया है, जिसके बिना पति अधूरा है।

गरुड़ पुराण के एक श्लोक में कहा गया है कि पत्नी के गुण पुरुष के लिए भाग्यशाली होते हैं। गरुड़ पुराण के एक श्लोक के अनुसार, ‘सा वर्या या गृह दक्षिणा सा वर्या या प्रियंवदा। सा वर्या या पतिप्राण सा वर्या या पतिब्रत। गरुड़ पुराण के इस श्लोक में स्त्री के चार गुणों, गृहदक्ष, प्रियंवदा, पतिप्राण और पतिव्रत का उल्लेख है, जो हर महिला में होने चाहिए। ऐसे गुणों वाली पत्नी सुलक्षणा कहलाती है और ऐसी पत्नी पाने वाला पुरुष सौभाग्यशाली पति होता है। जानिए इन गुणों के मायने।

  • गृह कौशल गृहदक्ष का अर्थ है गृहकार्य में दक्ष स्त्री।, उदाहरण के लिए, खाना बनाना, साफ-सफाई करना, घर को सजाना, कपड़े पहनना, मेहमानों का मनोरंजन करना, पारिवारिक जिम्मेदारियों को पूरा करना, सीमित संसाधनों में घर चलाना आदि। ऐसी स्त्री अपने पति के लिए भाग्यशाली होती है। साथ ही इस प्रकार की महिला को अपने पति और परिवार का भरपूर प्यार मिलता है।
  • प्रियंवदा का अर्थ होता है मीठी बातें। जो स्त्री अपने पति से बात करते समय मधुर और संयमित भाषा का प्रयोग करती है उसे अपने पति का भरपूर प्रेम प्राप्त होता है।
  • पति का जीवन उपपत्नी को उपपत्नी भी कहा जाता है। ऐसी महिलाएं पति की कही बातों का पालन करती हैं। वह कभी भी ऐसा कोई काम नहीं करती जिससे उसके पति को दुख हो। यही कारण है कि उनके पति भी ऐसी महिला को प्यार और सम्मान देते हैं।
  • शुद्धता- पतिव्रता वह स्त्री है जो अपने पति के अतिरिक्त किसी पुरुष को कभी गलत नहीं समझती। जो पत्नी विवाह के बाद केवल अपने पति को ही तन मन समर्पित करती है उसे शास्त्रों में पवित्रता कहा गया है। गरुड़ पुराण में भी कहा गया है कि पति बहुत भाग्यशाली होते हैं, जिनकी पत्नी केवल अपने पति से प्यार करती है।
यह भी पढ़ें :   Santoshi Mata Ki Aarti: शुक्रवार को करें मां संतोषी का व्रत और आरती, घर में लाएं सुख-समृद्धि, व्रत में करें इन नियमों का पालन

अस्वीकरण: यहां दी गई जानकारी केवल अनुमानों और तथ्यों पर आधारित है। यहां यह बताना जरूरी है कि कंट्री कनेक्ट न्यूज़ किसी भी तरह की एंडोर्समेंट, जानकारी की गारंटी नहीं देता है। किसी भी जानकारी या विश्वास पर कार्य करने से पहले प्रासंगिक विशेषज्ञ की सलाह लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here