Mauni Amavasya 2023 Date : मौनी अमावस्या कब है, जानें तिथि, मुहूर्त और महत्व

Table of Contents

Mauni Amavasya 2023 Date : इस दिन को शनैश्चरी अमावस्या के नाम से भी जाना जाएगा। यह दिन तीर्थ यात्रा और दान-पुण्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है. मौनी अमावस्या की तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान, जप-तप, दान-पुण्य के कार्य करने का विशेष धार्मिक व पौराणिक महत्व है। इस अमावस्या तिथि को चुप रहकर और मन को शांत करके ध्यान करना अति उत्तम माना जाता है। पद्म पुराण में कहा गया है कि मौनी अमावस्या के दिन मौन रहकर किए गए जप-तप और दान से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और धर्म लाभ प्राप्त होता है।

Mauni Amavasya 2023 Date : 2023 की पहली अमावस्या यानी पौष अमावस्या को बेहद खास माना जा रहा है। पौष मास की यह अमावस्या 21 जनवरी 2023, शनिवार को है। इसे मौनी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। (Mauni Amavasya 2023)

ALSO READ THIS :  Rashifal January 19, 2023 : शिक्षा व व्यवसाय के मामले में तुला, कुम्भ, मीन राशि के जातक सावधान रहें, जानें आज का राशिफल।

तीर्थ यात्रा और दान का बहुत महत्व है

इस दिन शनिवार होने के कारण इस दिन को शनैश्चरी अमावस्या भी कहा जाएगा। चूंकि यह दिन तीर्थ यात्रा और दान-पुण्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है, इसलिए इस दिन शनैश्चरी अमावस्या और सर्वार्थ सिद्धि योग का संगम अमावस्या के महत्व को दोगुना कर देता है। आइए जानते हैं शनैश्चरी अमावस्या यानी मौनी अमावस्या का शुभ मुहूर्त और कथा।

मौनी अमावस्या का महत्व

पौराणिक कथाओं के अनुसार मौनी अमावस्या के दिन गंगा में स्नान करने से साधक को अमृत के गुण प्राप्त होते हैं। अमावस्या तिथि पितरों की शांति के लिए समर्पित है। ऐसे में शनि अमावस्या पर तर्पण और पिंडदान करने से सात पीढ़ियों के पितृ तृप्त होते हैं। मौनी अमावस्या पर मौन रहकर व्रत, श्राद्ध और दान करने से दुख, दरिद्रता, कालसर्प, पितृदोष दूर होते हैं। इसके साथ ही शनिदेव की पूजा करने से समस्या से निजात मिलती है।

ALSO READ THIS :  Rashifal January 19, 2023 : शिक्षा व व्यवसाय के मामले में तुला, कुम्भ, मीन राशि के जातक सावधान रहें, जानें आज का राशिफल।

मौनी अमावस्या की कथा

पौराणिक कथा के अनुसार कांचीपुरी नगर में देवस्वामी नाम का एक ब्राह्मण अपनी पत्नी के साथ रहता था। दंपति के 7 बेटे और एक बेटी थी। देवस्वामी ने ज्योतिषी को अपनी पुत्री की विवाह कुंडली के बारे में बताया। ज्योतिषी ने कहा कि कन्या की ग्रह स्थिति ठीक नहीं है, विवाह के बाद उसे विधवा का जीवन व्यतीत करना पड़ेगा। ज्योतिषी की बात सुनकर माता-पिता चिंतित हो गए और उन्होंने ज्योतिषी से इसका उपाय पूछा।

श्रीहरि की आराधना से पति को जीवनदान मिला

ज्योतिषी ने कहा कि सिंहलद्वीप में रहने वाली धोबी सोमा को अपने घर बुलाकर उसकी पूजा करके अशुभ ग्रहों को शांत करें। ब्राह्मण देवस्वामी ने ऐसा ही किया। धोबी आतिथ्य से प्रसन्न हुआ और उसने लड़की को शाश्वत सौभाग्य का वरदान दिया।

ALSO READ THIS :  Rashifal January 19, 2023 : शिक्षा व व्यवसाय के मामले में तुला, कुम्भ, मीन राशि के जातक सावधान रहें, जानें आज का राशिफल।

धोबिनी के वरदान से पति बच गया

बाद में एक ब्राह्मण की पुत्री की मृत्यु के बाद एक धोबी के वरदान से उसे पुन: जीवित कर दिया गया। लेकिन जब धोबिनी की पूजा का पुण्य फीका पड़ गया, तो उसके पति की फिर से मृत्यु हो गई। मौनी अमावस्या के दिन ब्राह्मण दंपत्ति ने अपनी पुत्री की स्थिति को देखकर पीपल के वृक्ष के नीचे बैठकर भगवान विष्णु की पूजा की। युगल की पूजा से श्रीहरि प्रसन्न हुए और उन्होंने कन्या के पति को जीवनदान दिया।

(नोट: उपरोक्त सभी सामग्री कंट्री कनेक्ट न्यूज़ के द्वारा पाठकों को केवल सूचना के रूप में प्रदान की जाती है। कंट्री कनेक्ट न्यूज़ ऐसा कोई दावा नहीं करता है।)

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,703FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles